प्राचीन भारतीय इतिहास

नंद वंश (३४४ से ३२४/२३ ई०पू०)

भूमिका यद्यपि नंद वंश ( नन्द वंश ) की स्थापना महानंदिन ने की तथापि इस वंश का वास्तविक संस्थापक महापद्मनंद था। इस नंद वंशी के शासक जैन धर्मावलम्बी थे। ये जाति से निम्न थे। नंद वंश ने ३४४ ई०पू० से ३२४/३२३ ई०पू० तक मगध साम्राज्य पर शासन किया। इसका अन्तिम शासक धनानंद था जिसे आचार्य […]

नंद वंश (३४४ से ३२४/२३ ई०पू०) Read More »

शैशुनाग वंश या शिशुनाग वंश

भूमिका हर्यंक वंश के बाद शैशुनाग वंश या शिशुनाग वंश ने मगध पर शासन किया। इस राजवंश ने ४१२ ईसा पूर्व से ३४४ ईसा पूर्व ( लगभग ६८ वर्ष ) तक शासन किया। इस वंश में शिशुनाग और कालाशोक जैसे शासक हुए। शिशुनाग शैशुनाग वंश या शिशुनाग वंश की स्थापना ‘शिशुनाग’ ने की और वह

शैशुनाग वंश या शिशुनाग वंश Read More »

हर्यंक वंश या पितृहंता वंश

भूमिका हर्यंक वंश के शासक बिम्बिसार के सिंहासनारोहण से मगध के उत्कर्ष का इतिहास प्रारम्भ होता है और यह मौर्य सम्राट अशोक द्वारा कलिंग विजय के साथ अपनी पूर्णता को प्राप्त करता है। ईसा पूर्व छठी शताब्दी से लेकर चन्द्रगुप्त मौर्य के सिंहासनारोहण से पूर्व तीन राजवंशों ने मगध के उत्थान में योगदान दिया :

हर्यंक वंश या पितृहंता वंश Read More »

मगध का प्राचीन इतिहास या मगध का पहला ऐतिहासिक राजवंश

भूमिका ‘मगध का प्राचीन इतिहास’ छठी शताब्दी ई०पू० के पहले बहुत स्पष्ट नहीं है। पूर्व वैदिक काल में गंगा नदी के पूर्व के भू-भाग से आर्यों परिचित नहीं थे। उत्तर वैदिक काल में आर्यों का प्रसार पूर्व की ओर हुआ। मगध, अंग इत्यादि के विवरण उत्तर वैदिक साहित्यों में मिलने लगता है परन्तु ये क्षेत्र

मगध का प्राचीन इतिहास या मगध का पहला ऐतिहासिक राजवंश Read More »

मगध का उदय : कारण

भूमिका मगध का उदय प्राचीन भारतीय इतिहास की एक प्रमुख घटना है। बिहार प्रान्त के पटना तथा गया जनपदों की भूमि में स्थित मगध प्राचीन भारत का एक महत्त्वपूर्ण राज्य रहा है। महाभारतकाल में यहाँ का राजा ‘जरासंध’ था। बौद्ध साहित्यों में इसकी गणना सोलह महाजनपदों में की गयी है। सोलह महाजनपदों में से चार

मगध का उदय : कारण Read More »

बुद्धकालीन गणराज्य

भूमिका प्रारम्भ में अधिकांश इतिहासकारों का यह विचार था कि प्राचीन भारत में केवल राजतन्त्र ही थे। परन्तु कालान्तर में यह तथ्य प्रकाश में आया कि प्राचीन भारत में राजतन्त्रों के साथ-साथ गण अथवा संघ राज्यों का भी अस्तित्व रहा है। सबसे पहले १९०३ में रिज डेविड्स ने साम्राज्यवादी दृष्टिकोण को चुनौती देने के लिये

बुद्धकालीन गणराज्य Read More »

महाजनपद काल

भूमिका भारतवर्ष के ‘सांस्कृतिक इतिहास’ का प्रारम्भ अति प्राचीन काल में हुआ परन्तु उसके राजनीतिक इतिहास का प्रारम्भ अपेक्षाकृत बहुत बाद में हुआ। राजनीतिक इतिहास का मुख्य आधार सुनिश्चित तिथिक्रम (Chronology) होता है। इस दृष्टि से भारतवर्ष के राजनीतिक इतिहास का प्रारम्भ हम सातवी शताब्दी ई० पू० के मध्य ( ≈ ६५० ई० पू० )

महाजनपद काल Read More »

द्वितीय नगरीय क्रांति

भूमिका भारतवर्ष में प्रथम नगरीय क्रांति सैन्धव सभ्यता थी। हड़प्पा सभ्यता के पतन के बाद लगभग १,००० वर्षोंपरांत वैदिक युग की समाप्ति के बाद गंगा घाटी में छठी शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास ‘द्वितीय नगरीय क्रांति’ हुई। इस नगरीय क्रांति का तकनीकी आधार ‘लौह धातु’ का निरंतर बढ़ता प्रयोग था। तृतीय नगरीय क्रांति मध्यकाल में

द्वितीय नगरीय क्रांति Read More »

महाकाव्य काल

भूमिका महाकाव्य काल से तात्पर्य रामायण और महाभारत के समय से है। भारतीय लोक-जीवन में इन दोनों ही ग्रन्थों का अत्यन्त आदरपूर्ण स्थान है। रामायण हमारा आदि-काव्य है जिसकी रचना महर्षि वाल्मीकि ने की थी। महाभारत की रचना वेदव्यास ने की थी। यद्यपि इसके घटनाक्रम का सम्बन्ध बहुत पहले हो चुका था और इन दोनों

महाकाव्य काल Read More »

सूत्र काल

भूमिका उत्तर-वैदिक काल के अन्त तक वैदिक साहित्य अत्यन्त व्यापक एवं जटिल हो चुका था। अतः एक व्यक्ति के लिये सम्पूर्ण वैदिक साहित्य को कण्ठस्थ करना दुष्कर होता जा रहा था। इसलिये वैदिक साहित्य को अक्षुण्ण बनाये रखने के लिये उसे संक्षिप्त करने की आवश्यकता महसूस हुई। इसी आवश्यकता की पूर्ति हेतु सूत्र साहित्य का

सूत्र काल Read More »

Index
Scroll to Top