धर्म और दर्शन

धर्म और दर्शन

धर्म का भारतीय सभ्यता और संस्कृति में विशेष स्थान है। धर्म का इतिहास उतना ही पुरातन है जितना कि मानव सभ्यता का।

शैव धर्म

शिव से सम्बंधित धर्म को “शैव धर्म” और उनकी इष्ट मानकर पूजा करनेवाले “शैव” कहलाये। इस घर्म की प्राचीनता प्रागैतिहासिक काल तक जाती है। वर्तमान में ब्रह्मा और विष्णु के साथ शिव त्रिदेवों में सम्मिलित हैं। इनसे सम्बंधित व्रत महाशिवरात्रि और सोमवार है। तीसरे वर्ष मलमास लगता है। शिव में आर्य और आर्येत्तर तत्वों का समामेलन मिलता है। शिव की पूजा भारत में आसेतुहिमालय तक होती है।

वैष्णव ( भागवत् ) धर्म

वैष्णव धर्म में विष्णु के १० अवतारों में श्रीराम और श्रीकृष्ण सर्वाधिक लोकप्रिय हैं। इसमें अवतारवाद का विशेष महत्व है। सज्जनों की रक्षा , दुर्जनों का विनाश करने और धर्म की स्थापना के लिए भगवान समय समय पर अवतार लेते हैं।

पौराणिक धर्म

वैदिक धर्म की अपेक्षा पौराणिक धर्म सरल और लोकप्रिय था। इसमें भेदभावरहित सभी को मोक्ष का अधिकार था। इसमें भक्ति को अधिक महत्व दिया गया है।