सांस्कृतिक-ऐतिहासिक स्थल

ऐहोल ( Aihole )

भूमिका ऐहोल ( Aihole ) कर्नाटक प्रांत के बागलकोट जनपद में मालप्रभा नदी के तट पर स्थित है।  इसको मन्दिरों का नगर’ ( Town of Temples ) भी कहा गया है। यहाँ से लगभग ७० मन्दिरों के अवशेष प्राप्त हुए हैं। जैन कवि रविकीर्ति विरचित पुलकेशिन् द्वितीय का ऐहोल अभिलेख भी यहीं से मिलता है। …

ऐहोल ( Aihole ) Read More »

एलोरा की गुफाएँ ( Ellora Caves )

भूमिका एलोरा महाराष्ट्र प्रान्त के औरंगाबाद जनपद में स्थित है। यह औरंगाबाद से २९ किलोमीटर उत्तर-पश्चिम और अजन्ता से १३५ किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में है। पास में ही ‘वेलगंगा नदी’ प्रवाहित होती है। यहाँ से मिले उत्कीर्ण अभिलेख के अनुसार इसका प्रचीन नाम ‘एलापुर अंचल’ था। इसका एक अन्य नाम ‘वैरूल’ भी मिलता है। प्राचीन समय …

एलोरा की गुफाएँ ( Ellora Caves ) Read More »

एलीफैंटा

स्थिति एलीफैंटा या एलीफेंटा द्वीप ( Elephanta island ) वर्तमान मुम्बई से लगभग १० किमी० पूर्व और मुख्य भूमि से लगभग ३ किमी० पश्चिमी में स्थित है। एलीफैंटा द्वीप का आकार ज्वार के प्रभाव में १० से १६ वर्ग किमी० क्षेत्रफल में घटता-बढ़ता रहता है। इसका पूर्व नाम धारापुरी था जो एक दुर्ग नगर ( …

एलीफैंटा Read More »

एरण या एरकिण

भूमिका एरण मध्य प्रदेश के सागर जनपद में मालवा के पठार से बहने वाली बेतवा की सहायक बीना नदी के तट पर स्थित है। इसका एक अन्य प्रचीन नाम ‘एरकिण’ भी मिलता है। एरण का संक्षिप्त इतिहास  इसका इतिहास प्रागैतिहासिक काल तक जाता है। यहाँ से चार सांस्कृतिक स्तर मिलते हैं :— एक, ताम्रपाषाणिक संस्कृति …

एरण या एरकिण Read More »

अमरावती – प्राचीन बौद्ध स्थल

परिचय अमरावती शब्द का अर्थ है – स्वर्ग। इस नाम के कई स्थान हैं – एक, महाराष्ट्र का अमरावती जनपद है; द्वितीय, अभी हाल में विभाजित आंध्रप्रदेश की राजधानी का अमरावती नाम से नवनिर्माण चल रहा और तृतीय, प्राचीन अमरावती स्थल। हम यहाँ पर प्राचीन अमरावती की बात कर रहे हैं। अमरावती का इतिहास अमरावती …

अमरावती – प्राचीन बौद्ध स्थल Read More »

अरिकामेडु या पुडुके

परिचय अरिकामेडु ( Arikamedu ) के पुरावशेष भारत-रोम के व्यापारिक सम्बन्ध पर प्रकाश डालते हैं। यह संघ शासित राज्य पुदुचेरी ( पाण्डिचेरी ) से लगभग ३ किलोमीटर दक्षिण में जिंजी नदी के तट पर स्थित दक्षिण भारत का एक प्रसिद्ध पुरास्थल है। ‘पेरीप्लस ऑफ इरिथ्रियन सी’ में इसका नाम ‘पोडुके या पुडुके’ ( Podouke ) मिलता …

अरिकामेडु या पुडुके Read More »

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ५

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ५     अनेगोंडी कर्नाटक के कोप्पल जनपद में तुंगभद्रा नदी के उत्तरी तट पर स्थित है। हरिहर प्रथम ने इसे ही विजयनगर की प्रथम राजधानी बनायी थी। तुंगभद्रा नदी के दक्षिणी तट पर हंपी स्थित था। तालीकोटा के युद्धोपरांत ( १५६५ ई॰ ) दक्कन के ४ मुस्लिम सल्तनत सेनाओं …

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ५ Read More »

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ४

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ४   अजमेर ( अजयमेरु ) वर्तमान में अजमेर राजस्थान में स्थित एक सांस्कृतिक और प्रशासनिक स्थल है। इसकी स्थापना चाह्मान वंशी शासक ‘अजयराज’ ने की थी। इन्हीं के नाम पर इसका नाम अजयमेरु या अजमेर पड़ा है। यह सूफी संत ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती के दरगाह के लिए भी प्रसिद्ध …

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ४ Read More »

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ३

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ३   अखनूर अखनूर वर्तमान केन्द्र शासित प्रांत जम्मू और कश्मीर में स्थित एक जनपद है। सैंधव युगीन माण्डा नामक स्थान यहीं पर स्थित था। माण्डा सैंधव सभ्यता का सबसे उत्तरी स्थल है। यहाँ से प्राक्, विकसित और उत्तरकालीन हड़प्पा अवशेष मिले हैं। उदयगिरि-खण्डगिरि ओडिशा के खोर्धा जनपद में भुवनेश्वर …

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — ३ Read More »

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — २

सांस्कृतिक-ऐतिहासिक स्थल भाग – २   अफसढ़ ( अफसाढ़ ) अफसढ़ बिहार के गया जनपद में है। यहाँ से उत्तर गुप्त वंश के ८वें शासक आदित्यसेन का अभिलेख मिला है। इसमें परवर्ती गुप्त के प्रथम शासक कृष्णगुप्त से लेकर आदित्यसेन तक की वंशावली की जानकारी और इसमें उनके मौखरियों से सम्बंध की जानकारी मिलती है। …

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल — २ Read More »